Monday, 22 July 2013



घाटी में विदेशी आतंकी संगठनों ने गतिविधियां बढ़ाई

20 जुलाई श्रीनगर। घाटी में आतंकवाद की बढ़ रही घटनाओं के बीच विदेशी आतंकी संगठनों ने भी अपनी गतिविधियां बढ़ा दी हैं। पाकिस्तान में गठित लश्कर-ए-तोयबा और जैश-ए-मोहम्मद जैसे संगठन फिर से सक्रिय हो गए हैं। गत दिनों कुपवाड़ा जिले में एक पुलिसकर्मी की गला रेत कर की गई हत्या के पीछे भी विदेशी आतंकियों का हाथ बताया जा रहा है। घाटी में कई वर्षों से हिजबुल मुजाहिदीन संगठन से संबंधित आतंकी गतिविधियों में शामिल रहे हैं। लेकिन कुछ माह से लश्कर-ए-तोयबा, जैश-ए-मोहम्मद जैसे आतंकी संगठन भी सक्रिय हो गए हैं। इन आतंकियों ने कई स्थानों पर वारदातों को अंजाम दिया है। हाल ही में कुपवाड़ा सीमांत इलाके में घुसपैठ कर रहे 12 विदेशी आतंकियों में से छह का मारा जाना भी इस बात को पुख्ता करता है। गत रविवार को कुपवाड़ा जिले के हंदबाड़ा इलाके में एक पुलिसकर्मी की हत्या में भी लश्कर-ए-तोयबा का हाथ बताया गया है। अधिकारी कहते हैं कि इस घटना को अंजाम देने वाले आतंकी पाकिस्तानी थे। उन्होंने ही पुलिसकर्मी को पहले प्रताड़ित किया और बाद में उसकी गला रेत कर हत्या कर दी। रक्षा सूत्रों के अनुसार अधिकारी भी जम्मू कश्मीर विशेषकर कश्मीर संभाग में लश्कर-ए-तोयबा और जैश-ए-मोहम्मद जैसे संगठनों की बढ़ रही सक्रियता से इंकार नहीं करते हैं। सूत्र कहते हैं कि दोनों संगठनों का राज्य से अभी पूरी तरह से सफाया नहीं हुआ है। सीमा के उस पार 300 के करीब आतंकी अभी भी भारतीय इलाके में घुसपैठ कर इन संगठनों में नई जान फूंकने के प्रयास में हैं।

No comments:

Post a Comment